hindi

OMG; 67 सालों के बाद अमेरिका में इस महिला को मिलेगी मौत की सजा, बस फांसी के जगह लगेगा जहर का इंजेक्शन

0 23

अमेरिका की न्याय विभाग ने कहा है कि 70 सालों में पहली बार किसी महिला कैदी को मौत की सजा दी जा रही है। न्याय विभाग की ओर से बताया गया है कि लीसा मॉन्टगोमरी नाम की महिला कैदी को 8 दिसंबर के दिन मौत की सजा दी जाएगी। कोर्ट के मुताबिक लिए एक जघन्य अपराध को अंजाम दे चुके हैं लीसा ने साल 2004 में अमेरिका के मिसौरी राज्य में एक गर्भवती महिला की गला घोटकर हत्या कर दी थी। और उसके बाद मृत महिला का पेट चीरकर लीसा ने उसके बच्चे का अपहरण कर लिया था। न्याय विभाग के अनुसार, 8 दिसंबर को जहर का इंजेक्शन देकर लीसा मॉन्टगोमरी को मृत्युदण्ड दिया जाएगा।

इससे पहले अमेरिकी सरकार ने साल 1953 में ऐसी सजा दी थी। अमेरिका में मौत की सजा का रिकॉर्ड रखने वाले केंद्र के मुताबिक 1953 में मिसोरी राज्य की बोनी हेडी को गैस चेंबर में रखकर मौत की सजा सुनाई गई थी। अन्य शख्स हेडन को भी इसी साल दिसंबर में मौत की सजा दी जानी है हेडन ने साल 1999 में अपने साथियों के साथ मिलकर दो युवा मंत्रियों की हत्या की थी अमेरिकी अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि अपराध विशेष रूप से जघन्य अपराधों की श्रेणी में आते हैं। पिछले साल ही ट्रम प्रशासन ने कहा था कि वह सरकार द्वारा मौत की सजा देने की कार्रवाई फिर से शुरू करने वाली है।

आपको बता देंगे साल 2004 में लीसा मॉन्टगोमरी की बॉबी जो स्टिन्नेट से बात हुई थी। लीसा एक पिल्ला खरीदना चाहती थी। न्याय विभाग की प्रेस रिलीज के मुताबिक इसके लिए लीसा कैनसस से मिसोरी गईं, जहां बॉबी रहती थीं। बॉबी के घर में घुसने के बाद लीसा ने उन पर हमला किया और गला घोंटकर उनकी हत्या कर दी। जिस वक्त यह घटना हुई, तब बॉबी आठ महीने की गर्भवती थीं।

हमारी न्याय प्रणाली के तहत अभियुक्तों के खिलाफ यादव राष्ट्रीय स्तर पर संघ ने अदालतों में मुकदमे चलाए जा सकते हैं। या फिर क्षेत्रीय स्तर की राज्य अदालतों में। कुछ अपराध, जैसे जाली मुद्रा के मामले, ईमेल चोरी आदि अपने आप ही संघीय स्तर की अदालतों के दायरे में आते हैं। जिसमें या तो अमेरिकी सरकार पक्षदार होती है। या वो लोग पक्षकार होते हैं जिनके संवैधानिक अधिकारों का हनन किया गया हो।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.