hindi

कभी भाई जैसा था इन भारतीय खिलाड़ियों का रिश्ता, लेकिन अब आपस में नहीं करते बात

0 5

क्रिकेट के मैदान पर खेलते-खेलते खिलाड़ी एक-दूसरे के अच्छे दोस्त भी बन जाते हैं. खिलाड़ियों का ज्यादातर समय एक-दूसरे के साथ बीतता है. आज हम आपको कुछ ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं, जो कभी एक-दूसरे के इतने पक्के दोस्त थे कि लोग इन्हें भाई समझते थे. लेकिन बाद में इनकी दोस्ती टूट गई और ये एक-दूसरे के दुश्मन बन गए.

विनोद कांबली-सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर और विनोद कांबली दोनों की दोस्ती स्कूल से शुरू हुई थी. उस समय दोनों की दोस्ती के काफी चर्चे थे. लेकिन स्कूल लेवल के एक टूर्नामेंट के बाद अचानक से दोनों की दोस्ती में खटास आ गई. एक-दूसरे से दोनों ने सालों तक बात नहीं की. एक बार विनोद कांबली ने यह भी कहा था कि उन्हें जब मदद की जरूरत थी तो सचिन ने उनकी मदद नहीं की थी.

मुरली विजय-दिनेश कार्तिक

दिनेश कार्तिक और मुरली विजय एक-दूसरे के साथ काफी समय तक टीम इंडिया के लिए खेले. दोनों की दोस्ती भी बहुत गहरी थी. लेकिन मुरली विजय ने दिनेश कार्तिक की पहली पत्नी से शादी कर ली, जिसके बाद दोनों का रिश्ता खत्म हो गया.

विराट कोहली-गौतम गंभीर

गौतम गंभीर और विराट कोहली के बीच हुई लड़ाई के बारे में तो सब जानते हैं. शुरुआती दिनों में दोनों अच्छे दोस्त हुआ करते थे. हालांकि आईपीएल के एक मैच के दौरान दोनों की लड़ाई हो गई जिसके बाद उनके रिश्ते में दूरियां आ गई.

महेंद्र सिंह धोनी-वीरेंद्र सहवाग

धोनी और वीरेंद्र सहवाग के रिश्ते बहुत अच्छे थे. लेकिन दोनों के बीच कई बार लड़ाई हुई. वीरेंद्र सहवाग हमेशा धोनी के ऊपर उन्हें टीम से ड्रॉप करने का आरोप लगाते हैं.

युवराज सिंह-महेंद्र सिंह धोनी

युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी का रिश्ता मैदान के बाहर भी भाइयों जैसा था. हालांकि जब युवराज सिंह कैंसर को मात देकर वापस लौटे तो उन्हें टीम से लगातार बाहर किया गया. उस समय टीम के कप्तान धोनी थे. युवराज के पिता योगराज धोनी पर उनके बेटे के करियर को खत्म करने का आरोप लगाते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.