hindi

दुनिया का वो खूंखार सीरियल किलर जिसने कर दी थी सैकड़ों बच्चों की हत्या

0 10

सीरियल किलर से जुड़ी आपने कई कहानियां सुनी होंगी. लेकिन पाकिस्तान में एक ऐसा सीरियल किलर था, जिसने सैकड़ों बच्चों का बेरहमी से खून कर दिया था. इस खूंखार विलेन ने 100 बच्चों को मारने की कसम खाई थी, जिसके बाद उसने खुद सरेंडर कर दिया. सीरियल किलर का नाम जावेद इकबाल था. 19 दिसंबर 1999 की यह घटना है. लाहौर के एक उर्दू अखबार के संपादक को एक चिट्ठी मिली, जिसमें लिखा था- मेरा नाम जावेद इकबाल है और मैंने 100 बच्चों का कत्ल किया है और उनकी लाश को तेजाब डालकर जला दिया.

जावेद ने यह भी लिखा था कि उसने जिन बच्चों को मारा है उनमें से ज्यादातर घर से भागे हुए या अनाथ थे. उसने उस जगह  के बारे में भी बताया था जहां उसने सारे बच्चों का कत्ल किया था. जावेद ने एक चिट्ठी लाहौर पुलिस को भी भेजी थी. हालांकि पुलिस ने जावेद की चिट्ठी को गंभीरता से नहीं लिया. लेकिन जब संपादक ने इस मामले की जांच के लिए चिट्ठी में बताई गई जगह पर पत्रकार को भेजा तो पत्रकार को घर के अंदर से खून के निशान मिले. वहां दो बड़े बैग में बच्चों के जूते और कपड़े पड़े थे. घर में हाइड्रोक्लोरिक एसिड से भरे 2 कंटेनर थे और बच्चों की हड्डियों के ढांचे भी थे.

यह सब देखने के बाद पत्रकार दफ्तर पहुंचा और संपादक को बताया. इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची. पुलिस ने सारे सबूत बरामद किए. जावेद ने चिट्ठी में यह भी लिखा था कि वह रावी नदी में कूदकर आत्महत्या करने जा रहा है. पुलिस ने उसका सर्च ऑपरेशन किया. लेकिन जावेद की लाश कहीं भी नहीं मिली. पुलिस ने छानबीन में जावेद के दो साथियों को गिरफ्तार किया, जिसमें से एक ने छत से कूदकर आत्महत्या कर ली.

जावेद के कत्ल करने की वजह हैरान करने वाली थी. जावेद ने बताया कि मैं जब 20 साल का था तो मुझे साजिश के तहत फंसाकर दुष्कर्म के इल्जाम में जेल भेज दिया गया, जबकि मैंने कुछ नहीं किया था. इस वजह से मेरी मां हमेशा मुझसे जेल में मिलने आती थी और मेरे जेल से बाहर आने का इंतजार करते करते उनकी मौत हो गई. फिर मैंने कसम खाई कि मैं कम से कम 100 बच्चों की माताओं को वैसे ही रुलाऊंगा, जैसे मेरी मां रोई. जावेद को कोर्ट ने बहुत ही भयानक सजा सुनाई थी. उसके गले को 100 बार घोंटने और फिर उसकी लाश को 100 टुकड़ों में काटकर एसिड में गलाने का आदेश दिया था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.