hindi

हथियार भी होते हैं रिटायर, जाने सेना कैसे और कब हटाती है किसी हथियार को

0 13

मंगलवार को सेना ने दो हथियारों को डी-कमीशन कर दिया यानी रिटायर कर दिया. राजस्थान स्थित महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में एक कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें सेना ने अपने सबसे पुराने आर्टिलरी सिस्‍टम 130 एमएम सेल्‍फ प्रॉपेल्‍ड M-46 गन और 160 एमएम टैम्‍पला मोटार्स को डि-कमीशन कर दिया. 

इस दौरान कई ऑफिसर्स भी मौजूद थे. रक्षा मंत्रालय की तरफ से जारी की गई प्रेस रिलीज में यह बताया गया कि इस कार्यक्रम में आखिरी बार दोनों हथियारों ने फायरिंग की थी. कमिश्निंग फायरिंग सेरेमनी में लेफ्टिनेंट के रवि प्रसाद और बाकी सीनियर अधिकारी भी मौजूद रहे.

बता दें कि इन हथियारों को 1965 और 1971 में पाकिस्तान के विरुद्ध पश्चिमी बॉर्डर पर स्ट्राइक परफॉर्मेंस को मजबूत करने के मकसद से तैयार किया गया था. इन गन्स को 1981 में सेना में शामिल किया गया. यह हथियार पिछले 60 सालों से भारतीय सेना का अभिन्न हिस्सा रहे. लेकिन अब इन्हें रिटायर कर दिया गया है.

अब सेना के पास लेटेस्ट टेक्नोलॉजी से लैस उपकरणों को तैनात करने का मौका है. भारत ने अमेरिका के साथ 145 एम-777 हॉवित्‍जर तोपों की डील की है, जिसके तहत पहली दो तोपें 2017 में ही भारत आ चुकी हैं. 2900 करोड़ की इस डील के तहत अमेरिका भारत को 145 नई तोपें देगा. 

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.