hindi

जब एक बाल्टी के लिए आपस में भिड़ गए थे दो राज्य, हजारों लोगों को गंवानी पड़ी थी जान

0 21

दुनिया भर में कई ऐसे खतरनाक युद्ध हुए जिनमें लाखों लोग मारे गए. ज्यादातर युद्ध किसी राज्य या देश पर अपनी सत्ता स्थापित करने के उद्देश्य से लड़े गए. लेकिन सैकड़ों साल पहले एक ऐसा युद्ध हुआ था, जिसके पीछे का कारण केवल एक बाल्टी थी. यह घटना 1325 ईस्वी की है, उस समय इटली में काफी धार्मिक तनाव था. यहां के 2 राज्य बोलोग्ना और मोडेना के बीच अक्सर लड़ाई होती रहती थी.

बोलोग्ना को ईसाई धर्मगुरु पोप का समर्थन मिला था, जबकि मोडेना के समर्थन में रोमन सम्राट थे. दरअसल, बोलोग्ना के लोग मानते थे कि पोप ही ईसाई धर्म के सच्चे गुरु हैं. जबकि मोडेना के लोग रोमन सम्राट को असली गुरु मानते थे. इतिहासकारों के मुताबिक, रिनाल्डो बोनाकोल्सी के शासनकाल में मोडेना काफी ज्यादा आक्रामक हो गया था और बोलोग्ना पर अक्सर हमले करते रहता था.

यह तनाव देखते-देखते एक बड़ी लड़ाई में तब्दील हो गया. 1325 ईस्वी में मोडेना के कुछ सैनिक चुपचाप बोलोग्ना के किले में घुस गए और एक लकड़ी की बाल्टी चुरा ले गए. यह कहा जाता है कि वह बाल्टी हीरे-जवाहरातों से भरी हुई थी. जब बोलोग्ना की सेना को इस चोरी का पता चला तो उन्होंने मोडेना से उसे वापस देने को कहा. लेकिन मोडेना ने मना कर दिया, जिसके बाद बोलोग्ना ने मोडेना के खिलाफ़ युद्ध की घोषणा कर दी.

उस समय बोलोग्ना के पास 32,000 सैनिक थे. जबकि मोडेना के पास केवल 7000 सैनिक थे. दोनों राज्यों के बीच सुबह-सुबह लड़ाई शुरू हुई, जो आधी रात तक चली. लेकिन फिर भी इस युद्ध में मोडेना के सैनिक जीत गए. हालांकि युद्ध में दो हजार से ज्यादा सैनिक मारे गए थे. इस लड़ाई को ‘वॉर ऑफ द बकेट’ या ‘वॉर ऑफ द ऑकेन बकेट’ नाम से भी जाना जाता है

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.