hindi

आखिर ब्लूटूथ का नाम ब्लू ही क्यों पड़ा? रेड, ब्लैक या ग्रीन क्यों नहीं

0 17

आपने अपने फोन में ब्लूटूथ नाम का एक ऑप्शन देखा होगा. ब्लूटूथ वह टेक्नोलॉजी है जिसके जरिए आप बिना किसी तार के एक सीमित दूरी के इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे- फोन, कंप्यूटर आदि को एक दूसरे से कनेक्ट कर सकते हैं. आप एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में ब्लूटूथ के माध्यम से डाटा भी भेज सकते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ब्लूटूथ का नाम कैसे पड़ा. अगर ब्लूटूथ का हिंदी में ट्रांसलेट करें तो इसका मतलब निकलता है नीला दांंत, जो थोड़ा अजीब है.

राजा के नाम से आया नाम 

ब्लूटूथ का नाम किसी टेक्नोलॉजी से जुड़े काम की वजह से नहीं बल्कि एक राजा के नाम पर है. कई रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि ब्लूटूथ का नाम मध्ययुगीन स्कैंडिनेवियाई राजा के नाम पर पड़ा. उस राजा का नाम Harald Gormsson था. कुछ रिपोर्ट में कहा जाता है कि उनका नाम blátǫnn था और यह डेनमार्क भाषा का नाम है, जिसका अंग्रेजी में मतलब ब्लूटूथ होता है.

इकोनॉमिक्स टाइम्स समेत कई वेबसाइट में यह कहा गया है कि राजा का नाम ब्लूटूथ इसलिए दिया गया था, क्योंकि उनका एक दांत नीले रंग का दिखता था. इसी वजह से राजा के इस नीले दांत से ब्लूटूथ का नाम ब्लूटूथ पड़ा. हालांकि इस संबंध में कई और धारणाएं भी प्रचलित है. ऐसा भी कहा जाता है कि ब्लूटूथ के मालिक Jaap HeartSen, Ericsson कंपनी में Radio System का काम करते थे. ऐसी बहुत सी कंपनियों के साथ मिलकर एक गठन बनाया था जिसका नाम SIG था. ग्रुप मीटिंग के दौरान इंटेल के मालिक ने Jim Kardach राजा का जिक्र किया जिसके बाद इस कहानी से ब्लूटूथ का नाम निकला.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.