hindi

50 करोड़ साल पुरानी है ये पहाड़ी, दिन भर में कई बार बदलती है अपना रंग

0 27

आपने कई पहाड़ या चट्टान देखे होंगे. लेकिन आज हम आपको एक ऐसी पहाड़ी के बारे में बता रहे हैं, जो दिन में कई बार अपना रंग बदलती है. यह चट्टान मध्य ऑस्ट्रेलिया के रेगिस्तान में है. यह दुनिया की एकमात्र ऐसी चट्टान है जो अपना रंग बदलती है. इस चट्टान को उलूरू के नाम से जाना जाता है, जो बलुआ पत्थर से बनी हुई है.

ऑस्ट्रेलिया सरकार की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, यह चट्टान लगभग 50 करोड़ साल पुरानी है, जिसकी खोज 1873 में एक अंग्रेज ने की थी. उस समय हेनरी आयर्स ऑस्ट्रेलिया के प्रीमियर हुआ करते थे, जिस वजह से इस चट्टान का नाम आयर्स रॉक रख दिया गया था. चट्टान को यूनेस्को ने बाद में हेरिटेज साइट घोषित कर दिया.

यह पहाड़ी 348 मीटर ऊंची और 2.4 किलोमीटर चौड़ी है, जिसकी गोलाई लगभग 7 किलोमीटर है. उलुरु का सामान्य रंग लाल है. लेकिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय यह अपना रंग बदलती है, जिसके पीछे वैज्ञानिक कारण है. दरअसल बलुआ पत्थर पर जब सूरज की रोशनी पड़ती है तो यह अपना रंग बदलता है. सुबह के समय जब इस चट्टान पर सूर्य की रोशनी पड़ती है तो यह लाल और बैगनी रंग की लपटों में घिरी हुई लगती है. जबकि सूर्य के बदलते कोण के साथ इसका रंग बदलता जाता है. कभी इसका रंग लाल, कभी नारंगी तो कभी बैंगनी हो जाता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.