hindi

जब 150 रनों की शानदार पारी खेलने के बावजूद भी गंभीर ने कोहली को दिया था मैन ऑफ द मैच का अवार्ड, जाने वजह

0 20

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली विश्व क्रिकेट का जाना-माना नाम है. विराट कोहली के नाम क्रिकेट के खेल में अनगिनत रिकॉर्ड दर्ज है, जिन्हें तोड़ पाना हर किसी के लिए आसान नहीं है. जब भी कोहली मैदान पर उतरते हैं तो लोग उनसे एक शतक की उम्मीद करते हैं. लेकिन एक समय ऐसा भी था जब टीम इंडिया में कोहली नए-नए थे. कोहली ने 18 अगस्त 2008 को भारतीय टीम में डेब्यू किया था. 24 दिसंबर का दिन विराट कोहली के लिए बहुत ही खास है. बता दें कि इस दिन विराट कोहली ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर का पहला शतक लगाया था.

शुरुआत में जब कोहली टीम इंडिया में आए थे, तब वह मध्यक्रम में खेला करते थे. इस कारण शुरुआत में वह ज्यादा शतक नहीं लगा सके. क्योंकि जब कोहली खेलने जाते तो कभी मैच खत्म हो जाता, तो कभी टीम जीत जाती थी. जिस कारण कोहली को बड़ा स्कोर करने का पर्याप्त समय नहीं मिल पाता था. 24 दिसंबर 2009 को कोहली ने अपना पहला शतक लगाया, जो कि उनके डेब्यू के लगभग डेढ़ साल बाद आया. इसके बाद विराट कोहली ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. आज विराट कोहली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 70 शतक लगा चुके हैं.

कोहली ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का पहला शतक श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता के ईडन गार्डन में लगाया था. उस समय टीम इंडिया वीरेंद्र सहवाग की कप्तानी में पांच टेस्ट मैचों की सीरीज श्रीलंका के खिलाफ खेल रही थी. उस मैच में श्रीलंका की टीम ने भारतीय टीम को 315 रनों का लक्ष्य दिया. उस समय ये काफी बड़ा स्कोर माना जाता था. लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम के दोनों ओपनर वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर सस्ते में आउट होकर पवेलियन लौट गए. इसके बाद क्रीज पर गौतम गंभीर आए. इस मैच में नंबर चार पर महेंद्र सिंह धोनी नहीं खेल रहे थे, जिस कारण कोहली को बल्लेबाजी के लिए नंबर चार पर भेजा गया.

जल्दी दो विकेट गंवाने के बाद गंभीर और कोहली ने भारतीय टीम की पारी को संभाला. इन दोनों खिलाड़ियों के बीच में 50, 100, 150 और 200 रनों की पार्टनरशिप हुई. इस मैच में कोहली ने अपना पहला शतक भी पूरा किया. कोहली ने इस मैच में 114 गेंदों में 107 रनों की शतकीय पारी खेली. जबकि गंभीर ने नाबाद 150 रन बनाए. इस मैच में गंभीर को उनकी नाबाद पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का अवार्ड मिला. जब गौतम गंभीर को अवार्ड के लिए बुलाया गया, तो गंभीर अवार्ड देने वालों के पास गए और उन्होंने रवि शास्त्री से कहा कि यह अवार्ड कोहली को दे दिया जाए. क्योंकि कोहली यह अवार्ड डिजर्व करते हैं. उस समय कोहली को एक लाख का चेक, एक ट्रॉफी और मोबाइल दिया गया.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.