hindi

पटरी को जोड़ते समय दो हिस्सों के बीच क्यों छोड़ी जाती है खाली जगह, आज जान लीजिए वजह

0 14

भारतीय रेल नेटवर्क दुनिया का चौथा सबसे बड़ा नेटवर्क है, जहां हर रोज करोड़ों यात्री भारतीय रेल से यात्रा करते हैं. हालांकि कोरोना वायरस महामारी की संकट की घड़ी में यात्रियों की संख्या बहुत कम हो गई है. कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है. लेकिन इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि जब सब कुछ ठीक हो जाएगा तो फिर से रोजाना करोड़ों यात्री रेल से यात्रा करेंगे.

भारतीय रेल समय के साथ-साथ हाईटेक और सुविधाजनक होती जा रही है. आज हम आपको रेल से जुड़ी एक बहुत ही जरूरी जानकारी देने जा रहे हैं. आपने भी रेल से यात्रा की होगी. क्या आपने गौर किया है कि रेलवे ट्रैक पर थोड़ी-थोड़ी दूरी पर पटरियों को फिश प्लेट की मदद से जोड़ा जाता है. जहां भी पटरियों को जोड़ा जाता है वहां दो पटरियों के बीच में एक गेप दिखाई देता है. लेकिन यह गेप क्यों रखा जाता है. क्या इसके पीछे की वजह आपको पता है. नहीं तो आज जान लीजिए.

इसके पीछे छोड़ने का वैज्ञानिक कारण है. दरअसल गर्मियों के मौसम में लोहे से बनी पटरिया भारी-भरकम ट्रेनों के भार से फैलने लगती हैं, जबकि सर्दियों में सिकुड़ जाती हैं. इसी वजह से दो पटरियों को जोड़ते समय छोटा सा गेप छोड़ दिया जाता है. ताकि गर्मियों में यह पटरिया ट्रेन के वजन से फैलें तो इन्हें फैलने के लिए पर्याप्त जगह मिल सके. अगर पटरियों को फैलने के लिए जगह नहीं मिलेगी तो उस पर जोर पड़ेगा और ऐसे में वह क्रैक हो सकती है और बड़ा हादसा हो सकता हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.