hindi

आखिरी ट्रेन के पुराने डिब्बों का क्या होता है? सच्चाई जानकर रह जाएंगे हैरान

0 19

भारतीय रेल से हर रोज करोड़ों यात्री यात्रा करते हैं. समय के साथ-साथ भारतीय रेल की सुविधा भी हाईटेक और सुविधाजनक होती जा रही है. ट्रेनों में कई तरह के बदलाव हो रहे हैं. पुराने कोच को बदलकर नए कोच लगाए जा रहे हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर भारतीय रेल ट्रेन के पुराने डिब्बों का क्या करती है.

आपको बता दें कि भारतीय रेल के यात्री कोच की उम्र लगभग 30 साल होती है. यानी एक डिब्बा कम से कम 30 साल तक सेवाएं देता है. लेकिन कई बार इससे ज्यादा लंबे समय तक भी इनका इस्तेमाल किया जाता है. भारतीय रेल डिब्बों की लाइफ खत्म होने के बाद इन्हें डंप नहीं करती, बल्कि इनका नए सिरे से इस्तेमाल करती है. रेल के डिब्बों की बॉडी को मॉडिफाई किया जाता है और इसे एकदम नया कोच बनाने के बाद अलग-अलग ट्रेनों में इस्तेमाल किया जाता है. 

इतना ही नहीं रेल के पुराने डिब्बों का इस्तेमाल रेलवे कर्मचारियों के लिए अस्थाई घरों के रूप में भी किया जाता है. पुराने कोच से कर्मचारियों के लिए जो अस्थाई घर बनाए जाते हैं, उन्हें Camp Coach कहा जाता है. आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि मौजूदा समय में कोविड-19 महामारी के चलते बिगड़ते हालातों को देखते हुए भारतीय रेल ने पुराने डिब्बों को कोरोना वायरस मरीजों के लिए आइसोलेशन कोच के रूप में भी तब्दील कर दिया.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.