hindi

हिंदुस्तान की वो नदी जो निकलती तो पहाड़ों पर है…. लेकिन नहीं पहुंचती समुद्र तक

0 13

भारत में कुल मिलाकर 400 से ज्यादा नदियां हैं. नदियों का भारत की अर्थव्यवस्था में बहुत बड़ा योगदान है. आमतौर पर नदियां पहाड़ों से निकलती है और समुद्र में जाकर मिल जाती है. लेकिन आज हम आपको एक ऐसी नदी के बारे में बता रहे हैं जो निकलती तो पहाड़ों से है, लेकिन उसका संगम किसी भी समुद्र में नहीं होता.

राजस्थान के अजमेर से निकलती है लूनी नदी 

राजस्थान के अजमेर से निकलने वाली लूनी नदी का किसी भी समुद्र के साथ संगम नहीं होता. लूनी नदी का उद्गम अजमेर में करीब 722 मीटर की ऊंचाई पर बसे अरावली श्रेणी की नाग पहाड़ियों से होता है. यह नदी 495 किलोमीटर लंबी है, जो बड़े हिस्से की सिंचाई करती हुई गुजरात पहुंचती है. राजस्थान में नदी की कुल लंबाई 330 किलोमीटर, जबकि बाकी हिस्सा गुजरात में बहता है. यह नदी राजस्थान के अजमेर से निकलकर गुजरात के कच्छ तक पहुंचती है और फिर कच्छ के रण में जाकर मिल जाती है.

लूनी नदी का पानी अजमेर से लेकर बाड़मेर तक मीठा है. लेकिन इससे आगे निकलते ही इसका पानी खारा हो जाता है. इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह है कि जब यह नदी राजस्थान के रेगिस्तान से गुजरती है तो उसमें मौजूद नमक के कण नदी के साथ मिलने से इसके पानी में खारापन आ जाता है. लूनी नदी का नाम संस्कृत के लवणगिरि से लिया गया है. लवणगिरि का अर्थ नमकीन नदी अर्थात खारे पानी वाली नदी है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.