hindi

अगर हो जाए किसी की मृत्यु तो उनके लोन का क्या होता है? किसे चुकाने पड़ते हैं बाकी पैसे

0 19

जब भी पैसों की जरूरत होती है तो ग्राहक बैंक से लोन ले लेते हैं और फिर किस्तों में भुगतान करते हैं. लेकिन मान लीजिए अगर दुर्भाग्यवश किसी वजह से लोन लेने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है और लोन का पैसा बाकी रह जाता है तो यह पैसा कौन चुकाएगा. क्या आपने इस बारे में कभी सोचा है. आप इससे संबंधित नियम जानते हैं नहीं तो आज जान लीजिए.

क्या है नियम 

मृत्यु के बाद लोन के भुगतान को लेकर अलग-अलग नियम है. होम लोन के लिए अलग नियम, पर्सनल लोन के लिए अलग नियम. जब भी होम लोन लिया जाता है तो उसके एवज में घर के कागज गिरवी रखे जाते हैं. होम लोन की स्थिति में जब लोन पूरा नहीं चुकाया गया और शख्स की मृत्यु हो जाती है तो को-बोरोवर पर इसकी जिम्मेदारी होती है. या फिर व्यक्ति के उत्तराधिकारी पर लोन को जमा करने की जिम्मेदारी होती है.

अगर वह लोन का भुगतान कर सकते हैं तो उन्हें यह जिम्मेदारी दी जाती है. इसके अलावा वह संपत्ति बेचकर भी लोन का भुगतान कर सकते हैं. अगर ऐसा भी नहीं होता है तो बैंक लोन के एवज में गिरवी रखी गई संपत्ति को नीलाम कर बकाया राशि वसूल लेता है. अब बैंकों ने एक नया ऑप्शन भी शुरू कर दिया है. बैंक की तरफ से लोन लेते वक्त ही एक इंश्योरेंस करवा दिया जाता है. अगर व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो बैंक इंश्योरेंस के माध्यम से वसूल लेता है. आप भी लोन लेते वक्त इस बारे में पूछ सकते हैं. 

पर्सनल लोन सिक्योर्ड लोन नहीं होते हैं. ऐसे में अगर पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड लोन की स्थिति में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो बैंक किसी दूसरे व्यक्ति से पैसे नहीं बसूल सकता और ना ही उत्तराधिकारी की पर्सनल लोन को लेकर कोई जिम्मेदारी होती है. वाहन लोन भी सिक्योर्ड लोन होता है. अगर वाहन लोन लेने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो घर वालों को लोन का भुगतान करना होता है. अगर वह भुगतान नहीं करता तो बैंक वाहन को बेचकर पैसा वसूल लेता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.