hindi

वर्तमान में विराट कोहली गुजर रहे हैं अपने टेस्ट करियर के सबसे खराब फॉर्म से, आंकड़े दे रहे हैं इस बात की गवाही

0 34

वर्तमान में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली अपने करियर के सबसे शानदार फॉर्म से गुजर रहे हैं, तो यह कहना शायद गलत नहीं होगा. एक कप्तान के तौर पर कोहली भले ही पिछले 2 सालों में बेहद ही कामयाब रहे हो, लेकिन उनका बल्लेबाजी में प्रदर्शन एक चिंता का विषय है. कप्तान कोहली डब्लूटीसी के फाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरी पारी में जिस तरह से आउट हुए, उनकी तुलना साल 2014 के इंग्लैंड दौरे पर आउट होने की जा रही है.

लेकिन इस बार कप्तान कोहली तकनीक के बजाय मानसिक रूप से लड़ रहे हैं. पूर्व इंग्लिश कप्तान नासिर हुसैन का मानना है कि कोहली दूसरी पारी में जिस तरह आउट हुए, वह वैसा नहीं है जैसा वो 2014 में इंग्लैंड सीरीज के दौरान आउट हुए थे. हाल ही में कोहली ने टेस्ट मैच में जिस तरह का प्रदर्शन किया, उससे कई सवाल खड़े हो रहे हैं. कप्तान कोहली ने आखिरी बार 2019 में बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट मैच में शतक लगाया था. जिसके बाद विराट कोहली ने आठ टेस्ट मुकाबले खेले और इस दौरान उन्होंने केवल तीन अर्धशतक ही लगाएं हैं.

आईएएनएस से बातचीत में पूर्व भारतीय बल्लेबाजस कोच और चयनकर्ता अंशुमान गायकवाड़ ने कहा- हर कोई करियर में खराब वक्त से गुजरता है. सुनील गावस्कर, मोहिंदर अमरनाथ और मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ. 1969, 1970 और 1971 में अच्छा सीजन गया था. लेकिन 1972 में मैं रणजी ट्रॉफी में 5 बार शून्य पर आउट हुआ. एक अन्य पूर्व चयनकर्ता गगन खोडा ने भी यह कहा कि यह चिंता का विषय नहीं है. सभी खिलाड़ी खराब फॉर्म से गुजरते हैं. 8 टेस्ट मैचों में शतक नहीं बनाना या औसत में गिरावट का मतलब यह नहीं है कि कोहली जैसे बल्लेबाज आगे भी नाकाम रहेंगे.

गायकवाड़ ने कप्तान कोहली की किसी भी तकनीकी कमजोरी को दूर देने से इनकार किया. उन्होंने कहा कि आप जितना खेलेंगे, उतना ही हिसाब से आपका दिमाग चलेगा. तकनीक दिमाग से चलती है. आपको लगता है यह काम करेगा, लेकिन यह काम नहीं करता. क्रिकेट दिमाग का खेल है और और यह ऐसा है कि आप कैसे अपने दिमाग को चलाते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.