hindi

कौन-सी पिच पर खेलना है सबसे ज्यादा मुश्किल? पर्थ, सबीना और गाबा नहीं बल्कि सुनील गावस्कर ने लिया यह नाम

0 14

भारत समेत एशिया के सभी देशों में टेस्ट मैच के लिए स्पिनरों की मददगार पिच बनाई जाती है. यही कारण है कि विदेशी टीमों को यहां स्पिनर को खेलें में काफी परेशानी उठानी पड़ती है. ऐसा बहुत ही कम देखने को मिला है, जब भारत से खेले गए टेस्ट मैच में स्पिनरों के मुकाबले तेज गेंदबाजों को ज्यादा मदद मिली हो. ऐसा ही एक वाकया चेन्नई में हुआ था, जिसको लेकर हाल ही में भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने अपने अनुभव शेयर किए. सुनील गावस्कर ने यहां की पिच पर बल्लेबाजी करने को सबसे ज्यादा मुश्किल बताया.

क्रिकेट एनालिस्ट पॉडकास्ट में सुनील गावस्कर ने कहा- 1978 में वेस्टइंडीज के खिलाफ चेन्नई के मैदान पर खेला गया मैच मेरे करियर का सबसे मुश्किल मैचों में से एक था. मैंने अपने करियर में जितने भी पिच पर खेला, उनमें यह सबसे तेज थी. मैंने वेस्टइंडीज के सबीना पार्क में बैटिंग की, जहां लगातार आपके सर के ऊपर से गेंद उड़ती हुई निकलती थी. मैंने ऑस्ट्रेलिया की तेज उछाल वाली पिच और गाबा की पिच पर बल्लेबाजी की है. जहां गेंद बेहद तेज गति से आपकी ओर आती है. चेन्नई की वो पिच इन सबमें सबसे तेज पिच थी, जहां मैंने बल्लेबाजी की.

बता दें कि गावस्कर अपने समय के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर में से एक रहे. जब गावस्कर से पूछा गया कि उनकी नजरों में सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर कौन रहा. जिसके जवाब में उन्होंने वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर सर गारफील्ड सोबर्स का नाम लिया और उन्हें दुनिया का सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर बताया. गावस्कर ने कहा- सोबर्सबल्लेबाजी के दौरान बहुत तेजी के साथ गेम को अपने टीम के पक्ष में रखने का दम रखते थे. साथ ही उनकी गेंदबाजी और फील्डिंग का भी कोई सानी नहीं था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.