hindi

साउथ अफ्रीका छोड़ने वाले खिलाड़ियों से बनी प्लेइंग इलेवन, कोई गया इंग्लैंड तो कोई न्यूजीलैंड

0 7

न्यूजीलैंड की तरफ से ओपनर बल्लेबाज डेवॉन कॉनवे ने इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ दिया. दिलचस्प बात ये है कि कॉनवे साउथ अफ्रीका में पले-बढ़े और क्रिकेट खेले. लेकिन वो अपना देश छोड़कर न्यूजीलैंड में बस गए. कॉनवे को साउथ अफ्रीका की टीम में मौका नहीं मिला, जिस वजह से उन्होंने देश छोड़ दिया और वह न्यूजीलैंड में बस गए. कॉनवे न्यूजीलैंड के लिए टी-20, वनडे और टेस्ट डेब्यू भी कर चुके हैं. कॉनवे के अलावा कई और ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें साउथ अफ्रीका अफ्रीकी टीम में मौका नहीं मिला, जिस वजह से उन्होंने देश छोड़ दिया.

ये हैं वो खिलाड़ी

इंग्लैंड के लिए क्रिकेट खेलने वाले जेसन रॉय का जन्म भी साउथ अफ्रीका के डरबन में हुआ था. लेकिन 10 साल की उम्र में ही वह इंग्लैंड आ गए.

जॉनाथन ट्रॉट भी दक्षिण अफ्रीका में जन्में. लेकिन बाद में वह इंग्लैंड आ गए, जहां उन्होंने इंग्लैंड के लिए काफी समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला.

कीटन जेनिंग्स इंग्लैंड के लिए क्रिकेट खेले. पर उनका जन्म जोहान्सबर्ग में हुआ था. जेनिंग्स इंग्लैंड के लिए 17 टेस्ट मैच खेले हैं.

निक कॉम्पटन भी दक्षिण अफ्रीका में जन्मे पढ़ाई की और उसके बाद वो इंग्लैंड बस गए.

स्टुअर्ट मीकर भी दक्षिण अफ्रीका में जन्मे थे. लेकिन बाद में वो इंग्लैंड आकर बस गए. इंग्लैंड की तरफ से वह भारत के विरुद्ध 2 टी-20 और 2 वनडे मैच भी खेल चुके हैं.

जेड डर्नबाक भी दक्षिण अफ्रीका के जोहानसबर्ग में जन्मे. लेकिन उन्होंने इंग्लैंड की तरफ से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा.

मार्नस लाबुशेन भी दक्षिण अफ्रीका में ही पैदा हुए थे. लेकिन काफी कम उम्र में वह ऑस्ट्रेलिया जाकर बस गए.

न्यूजीलैंड के विकेटकीपर ग्लेन फिलिप्स साउथ अफ्रीका में जन्में, लेकिन जब वह 5 साल के थे, तभी न्यूजीलैंड आ गए.

नील वैगनर भी साउथ अफ्रीका में जन्मे. दो टेस्ट मैचों में वो साउथ अफ्रीका के लिए 12वें खिलाड़ी भी रहे, लेकिन उन्हें मौका नहीं मिला तो वो न्यूजीलैंड जआकर बस गए.

साउथ अफ्रीका के लिए 309 टेस्ट विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज मॉर्ने मॉर्कल भी अपना देश छोड़कर ऑस्ट्रेलिया बस चुके हैं. फिलहाल मॉर्कल ऑस्ट्रेलिया में रहते हैं

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.