hindi

पूर्व सिलेक्टर किरण मोरे का धोनी को लेकर बड़ा खुलासा, बोले- माही को खिलाने के लिए 10 दिनों तक गांगुली को करना पड़ा था राजी

0 9

पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की गिनती विश्व के दिग्गज क्रिकेटरों में की जाती है. विश्व के बेहतरीन कप्तान और विकेटकीपर में धोनी का नाम जरूर शामिल होता है. विकेट के पीछे रहते हुए धोनी ने अपनी तेजी और बल्ले से कई उपलब्धियां हासिल की है. बतौर कप्तान धोनी आईसीसी के तीनों खिताब जीतने वाले एकमात्र क्रिकेटर हैं. लेकिन हाल ही में धोनी को लेकर पूर्व बीसीसीआई चीफ सिलेक्टर किरण मोरे ने एक बड़ा खुलासा किया है. किरण मोरे ने बताया कि धोनी को विकेटकीपर के तौर पर टीम में शामिल करने के लिए उन्हें 10 दिनों तक सौरव गांगुली को मनाना पड़ा था.

एक यूटयूब चैनल ‘द कर्टली एंड करिश्मा शो’ पर बात करते हुए किरण मोरे ने कहा- उस वक्त फॉर्मेट बदल रहा था तो हमें एक पावर हिटर बल्लेबाज चाहिए था. हमें एक ऐसे खिलाड़ी की जरूरत थी, जो छठे-सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए टीम के लिए 40 से 50 रन जोड़ सके. बतौर विकेटकीपर राहुल द्रविड़ ने 75 वनडे मैच खेलेय इस भूमिका में उन्होंने 2003 का विश्वकप भी खेला. लेकिन हम एक ऐसे विकेटकीपर की तलाश थे, जिससे कि हम उनका बोझ कम कर सके.

आगे किरण मोरे ने कहा- मेरे एक साथी की नजर धोनी पर पड़ी. जिसके बाद मैं उनका खेल देखने के लिए गया. उस समय सिर्फ धोनी का खेल देखने के लिए मैंने फ्लाइट पकड़ी थी. यहां धोनी की पूरी टीम ने 170 रन बनाए थे. जिसमें उन्होंने 130 रन बनाए थे. उन्होंने लगभग सभी गेंदबाजों के खिलाफ रन बनाए थे. इसलिए हम चाहते थे कि फाइनल मैच में धोनी ही विकेटकीपिंग करें. आगे मोरे बताते हैं कि उस समय ईस्ट जोन की तरफ से दीप दासगुप्ता विकेटकीपिंग की भूमिका निभा रहे थे. ऐसे में उनकी जगह धोनी को विकेटकीपिंग करने देने के लिए उन्हें 10 दिन तक गांगुली और दीप दासगुप्ता को मनाना पड़ा था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.