hindi

टीम इंडिया से बाहर होने के बाद डेढ़ साल तक नहीं सो पाए थे रविंद्र जडेजा, बयां किया अपना दर्द

0 9

स्टार भारतीय ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा इन दिनों इंग्लैंड दौरे की तैयारियों में जुटे हुए हैं. जडेजा 2018 के इंग्लैंड दौरे से पहले काफी समय तक भारत की टेस्ट और वनडे टीम से बाहर रहे थे. उस दौरे ने जडेजा का करियर बदल कर रख दिया. हालांकि अब वह भारतीय टीम के लिए तीनों फॉर्मेट में क्रिकेट खेल रहे हैं. हाल ही में जडेजा ने अपने करियर से जुड़े कुछ पहलुओं को लेकर बड़ा खुलासा किया.

जडेजा से पूछा गया कि 18 महीने तक आप वनडे और टेस्ट टीम से बाहर रहे. इतनी शानदार वापसी कैसे की. इस सवाल के जवाब में जडेजा ने कहा- सच कहूं तो डेढ़ साल रातों की नींद हराम कर गए. उस दौर में मुझे याद है कि मैं सुबह 4-5 बजे उठ जाता था. मैं सोच रहा था कि क्या करूं. मैं वापसी कैसे करूं. मैं सो नहीं सका. मैं लेटा रहता था लेकिन जगा ही रहता था. मैं टेस्ट टीम में था, लेकिन खेल नहीं रहा था. मैं वनडे नहीं खेल रहा था. घरेलू क्रिकेट भी नहीं खेल रहा था, क्योंकि भारतीय टीम के साथ यात्रा करता था. मुझे खुद को साबित करने का मौका नहीं मिल रहा था. मैं सोचता रहता था कि वापसी कैसे करूं.

बता दें कि 2018 में इंग्लैंड के विरुद्ध ओवल टेस्ट में भारतीय टीम 332 रन का पीछा करते हुए छह विकेट पर 160 रन बनाकर संघर्ष कर रही थी. जडेजा ने उस मैच में शानदार 86 रन बनाए. इसके बाद ही उनके करियर में बदलाव हुआ. उस मैच को याद करते हुए जडेजा ने कहा- उस टेस्ट ने मेरे लिए सब कुछ बदल दिया. पूरा खेल. मेरा प्रदर्शन, मेरा आत्मविश्वास, सब कुछ. जब आप सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ अंग्रेजी परिस्थितियों में स्कोर करते हैं, तो आपके आत्मविश्वास को मजबूती मिलती है. आपको एहसास होता है कि आपकी तकनीक दुनिया में कहीं भी स्कोर करने के लिए काफी अच्छी है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.