hindi

पहले 10 में से 9 युवा महेंद्र सिंह धोनी और विराट की तरह बनना चाहते थे, लेकिन अब नहीं, दिग्गज गेंदबाज का बड़ा बयान

0 10

पिछले कुछ सालों में भारतीय टीम की गेंदबाजी में बहुत ज्यादा सुधार हुआ है. टेस्ट क्रिकेट में भारतीय गेंदबाज लगातार 20 विकेट हासिल करने में भी कामयाब हो रहे हैं. जल्द ही भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के विरुद्ध आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला खेलना है. भारतीय टीम को फाइनल में पहुंचाने में गेंदबाजों ने अहम भूमिका निभाई है.

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज लक्ष्मीपति बालाजी ने भी भारतीय गेंदबाजी आक्रमण की जमकर तारीफ की. लक्ष्मीपति बालाजी ने कहा- पहले 10 में से 9 युवा खिलाड़ी विराट कोहली, सचिन तेंदुलकर या फिर एमएस धोनी बनना चाहते थे. लेकिन आजकल के युवा जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और जहीर खान जैसा बनना चाहते हैं. तेज गेंदबाजों का महत्व अब बुमराह की तेज रफ्तार, शमी के नई दौर में क्रिकेट की हुनर और इशांत शर्मा लंबे अनुभव ने बदला है.

लक्ष्मीपति बालाजी ने आगे कहा- आज हमारे पास शमी और बुमराह दो सबसे ज्यादा हुनरमंद तेज गेंदबाज हैं, जिनके साथ ही हम एक ही वक्त में खिला सकते हैं. ईशांत को भी रोटेट किया जा सकता है. टीम में भुवनेश्वर कुमार, शार्दुल ठाकुर, मोहम्मद सिराज जैसे और कई तेज गेंदबाज हैं. इन सभी चीजों की वजह से भारतीय टीम के पास एक बड़ा गेंदबाजी का दल तैयार हो रहा है. ये सभी खिलाड़ी उसी लगन और उत्साह के साथ गेंदबाजी करते हैं. आखिर मैं आपको अपने गेंदबाजों को ताजा और उनके लंबे समय तक सही तरीके से बनाए रखना होता है. आपको उनको बचा कर रखने के लिए एक फार्मूला तैयार करना होता है.

लक्ष्मीपति बालाजी ने टी नटराजन की भी तारीफ की जिन्होंने बाएं हाथ के गेंदबाज की कमी पूरी की है. उन्होंने कहा कि यह सबकुछ गेंदबाजों को लेकर आए बदलाव का ही नतीजा है, जिस वजह से भारतीय टीम लगातार टेस्ट में 20 विकेट निकालने में सक्षम रही है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.