hindi

WTC Final: न्यूजीलैंड की कमजोरी आई पकड़ में, टीम इंडिया को होगा बड़ा फायदा

0 12

18 जून से भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के विरुद्ध वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला खेलना है. यह मुकाबला का साउथैंप्टन के मैदान पर खेला जाएगा. इस मैच में न्यूजीलैंड को प्रबल दावेदार बताया जा रहा है, क्योंकि वहां की पिच और मौसम कीवी टीम को काफी रास आता है. न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को इंग्लैंड की पिचों पर गेंदबाज़ी में काफी मदद मिलती है. वहीं भारतीय खिलाड़ियों को इंग्लैंड में खेलने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

न्यूजीलैंड की गेंदबाजी भले ही मजबूत है, लेकिन उसकी बल्लेबाजी में अनुभव और फॉर्म की कमी है. न्यूजीलैंड के पास ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और नील वैगनर जैसे तीन तेज गेंदबाजों की तिकड़ी है जो कि अनुभव के साथ-साथ गजब की फॉर्म में भी हैं. लेकिन न्यूजीलैंड की बल्लेबाजी में काफी कमजोरियां नजर आती है, जिसका फायदा भारतीय टीम के गेंदबाज उठा सकते हैं.

न्यूजीलैंड की सबसे बड़ी ताकत उसके कप्तान केन विलियमसन हैं. वहीं हेनरी निकोल्स, टॉम लैथम, रॉस टेलर और बीजे वॉटलिंग टीम के अहम बल्लेबाज हैं. लेकिन केन विलियमसन और टेलर के अलावा न्यूजीलैंड के बाकी बल्लेबाजों को न्यूजीलैंड से बाहर खेलने का ज्यादा अनुभव नहीं है. हेनरी ने कभी भी इंग्लैंड में टेस्ट नहीं खेले हैं. टॉम लैथम ने भी केवल दो ही टेस्ट खेले हैं.

बीजे वॉटलिंग और रॉस टेलर को इंग्लैंड में टेस्ट खेलने का कुछ अनुभव है. लेकिन अगर यह दोनों खिलाड़ी फ्लॉप हो जाते हैं तो न्यूजीलैंड की टीम कुछ खास नहीं कर पाएगी. न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर काइल जेमिसन भी पहली बार इंग्लैंड में टेस्ट मैच खेलेंगे. अगर विलियमसन की बात करें तो वह वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के सभी विदेशी टेस्ट मैचों में फ्लॉप साबित हुए हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.