hindi

इंग्लैंड के WTC फाइनल में ना पहुंचने पर दुखी हुए स्टूअर्ट ब्रॉड, ICC को बताया दोषी

0 12

भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेला जाएगा. लेकिन विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण के फाइनल में पहुंचने का इंग्लैंड का सपना पूरा नहीं हो सका. इस बात का इंग्लैंड के क्रिकेटरों को मलाल है. इंग्लैंड क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने इसको लेकर आईसीसी को जिम्मेदार ठहराया है. स्टुअर्ट ब्रॉड का कहना है कि पांच मैचों की सीरीज और भारत और बांग्लादेश के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज के पॉइंट कैसे बराबर हो सकते हैं.

बता दें कि आईसीसी ने सीरीज के लिए बराबर पॉइंट की व्यवस्था की थी, जिससे की खेलने वाली टीम पर इसका विपरीत प्रभाव ना पड़े. ब्रॉड ने कहा- वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप सच में अच्छी सोच है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि अभी तक यह बिल्कुल सही है. पहली बार इसका आयोजन किया जा रहा है. यह मेरी समझ से परे है कि पांच मैचों की एशेज सीरीज और भारत और बांग्लादेश के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज के एक जैसे प्वॉइंट्स कैसे हो सकते हैं.

डब्ल्यूटीसी के प्वाइंट सिस्टम के तहत सीरीज का रिजल्ट नहीं बल्कि मैचों के रिजल्ट के हिसाब से पॉइंट दिए जा रहे थे. पांच मैचों की सीरीज में हर मैच जीतने पर कुल 20 फीसदी मिल रहे थे, जबकि दो मैचों की सीरीज में उपलब्ध प्वॉइंट्स के 50 फीसदी प्वॉइंट्स मिल रहे थे. ब्रॉड ने कहा- मौजूदा प्वाइंट सिस्टम में इंग्लैंड के लिए डब्ल्यूटीसी फाइनल में पहुंचना बेहद मुश्किल होगा. यह अच्छी सोच है लेकिन इसकी पॉइंट सिस्टम पर काम करने की जरूरत है.

हमारे पास मौका था लेकिन इंग्लैंड की टीम जितनी अधिक क्रिकेट खेलती है, उसे देखते हुए मौजूदा व्यवस्था में उसके लिए फाइनल में जगह बनाना मुश्किल होगा. बता दें कि भारत ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगातार दो सीरीज जीतकर इंग्लैंड की टीम का डब्लूटीसी के फाइनल में जाने का सपना चकनाचूर कर दिया था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.