hindi

केलकुलेटर में क्यों होते हैं MC, MR, M+ और M- बटन, क्या आपने कभी किया है इनका इस्तेमाल

0 24

केलकुलेटर का इस्तेमाल काफी पुराने समय से हो रहा है. हालांकि आजकल मोबाइल फोन में भी केलकुलेटर की सुविधा उपलब्ध है, जिससे अब इनके इस्तेमाल में कमी आई है. लेकिन जिन लोगों को कोई बड़ी कैलकुलेशन करनी होती है उनका काम मोबाइल केलकुलेटर से नहीं हो सकता. केलकुलेटर में आमतौर पर प्लस (+), माइनल (-), मल्टीप्लाई (x) और डिवाइड (÷) बटन होते हैं. लेकिन केलकुलेटर में आपने कुछ ऐसे m+, m-,mr और mc बटन भी देखे होंगे जिनका इस्तेमाल कभी-कभी किया जाता है. क्या आपको पता है कि इन बटन की क्या भूमिका है. 

m+

इस बटन को मेमोरी प्लस कहा जाता है. जिसका मुख्य काम कैलकुलेशन को मेमोरी में जोड़ना यानी प्लस करना होता है. यानी यह बटन दो अलग-अलग अंको को गुणा करके उनके गुणनफल का परिणाम निकालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. उदाहरण के लिए हमें दो कैलकुलेशन करने हैं, हमारे पास ₹5 के दो नोट और ₹10 के पास नोट है. अब हमें इन सभी को एक साथ जोड़ना है, तो हम सबसे पहले 5 का 2 से मल्टिप्लाई करेंगे और फिर m+ दबा देंगे. इसके बाद परिणाम सेव हो जाएगा और हम 10 को 5 से मल्टिप्लाई करेंगे और फिर m+ बटन दबा देंगे. अब हमारे दोनों कैलकुलेशन से परिणाम जानने के लिए हमें mr बटन दबाना होगा. हमें हमारा उत्तर मिल जाएगा.

m

इस बटन को मेमोरी माइनस कहा जाता है, इसका इस्तेमाल दो अलग-अलग मेमोरी को घटाने के लिए होता है. उदाहरण के लिए- हमें दो कैलकुलेशन करने हैं. हमारे पास ₹10 के 5 नोट और ₹5 के दो नोट हैं. हमें इन दोनों के गुणनफल को घटाना है. तो हम सबसे पहले 10 को 5 से मल्टिप्लाई करेंगे और m- बटन दबा देंगे. इसके बाद पांच को दो से मल्टिप्लाई करेंगे और फिर m- बटन दबा देंगे और फिर हमें हमें mr बटन दबाना होगा. हमें हमारा उत्तर मिल जाएगा. हालांकि सभी कैलकुलेशन के बाद mc बटन को जरूर दबाना चाहिए. जिससे आपने पहले जो कुछ भी कैलकुलेट किया वह सब क्लियर हो जाएगा.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.