hindi

अपने पद पर बरकरार रहेंगे सौरव गांगुली और जय शाह, सुप्रीम कोर्ट में टली सुनवाई

0 6

बीते गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की सुनवाई को 2 सप्ताह के लिए स्थगित कर दिया गया है. सौरव गांगुली और जय शाह को अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने के लिए और भी समय मिल गया है. आपको बता दें कि बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह का कार्यकाल 2020 के मध्य में ही समाप्त हो चुका है. लेकिन अब भी दोनों अपने पद पर कार्य कर रहे हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट अभी तक इस मामले पर सुनवाई नहीं कर पाया है.

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 9 दिसंबर को अपनी अलग-अलग राय रखी थी और मामला मार्च तक के लिए टाल दिया था. निरंतर हो रही देरी से यह निश्चित है कि गांगुली और जय शाह अपने पद पर बने रहेंगे. बीसीसीआई का संविधान इस बात की इजाजत देता है कि अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, संयुक्त सचिव और खजांची 3 साल तक कूलिंग ऑफ पीरियड में बने रह सकते हैं. यह सुविधा छह साल लगातार अपने पद पर बने रहने के बाद मिलती है.

तीन साल के कूलिंग आफ पीरियड के बाद तीन साल का और समय मिल सकता है. यानी वह 9 साल तक पद पर बने रह सकता है. यह बीसीसीआई के उन नियमों में से एक है, जिस पर पूरा संविधान खड़ा है. इसमें ही बीसीसीआई ने संशोधन किया है. इसमें किसी भी तरह का संशोधन पदाधिकारियों को अपने पद पर बने रहने की छूट देता है.

बता दें कि 23 अक्टूबर 2019 को बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर सौरव गांगुली बैठे थे. पहले कार्यकाल में वह केवल 278 दिन प्रमुख बने रहे. जुलाई 2014 में वह कैब में संयुक्त सचिव बने थे. 26 जुलाई 2020 को सौरव गांगुली का कार्यकाल खत्म हो गया. सचिव जय शाह 2013 में गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव बने थे. इससे पहले वह जीसीए एग्जीक्यूटिव थे. तब से वह जीसीए से जुड़े हुए हैं. हालांकि जय शाह का कार्यकाल भी समाप्त हो चुका है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.