hindi

मैच के दौरान खिलाड़ी ने जानबूझकर की मिसफील्डिंग तो अंपायर ने दी कड़ी सजा

0 5

अफगानिस्तान और जिंबाब्वे के बीच दूसरा टेस्ट मैच खेला जा रहा है, जिसके तीसरे दिन एक अजीबोगरीब नजारा देखने को मिला. अफगानिस्तान के फील्डर हशमतुल्लाह शाहिदी ने जो किया, उसकी सजा पूरी टीम को भुगतनी पड़ी. जब जिंबाब्वे का स्कोर 281/8 था, उस समय सिकंदर रजा और ब्लेसिंग मुजाराबानी बल्लेबाजी कर रहे थे.

सिकंदर रजा ने 1 ओवर की आखिरी गेंद पर कवर की तरफ शॉट खेला और वह सिंगल रन लेने के लिए दौड़ पड़े. गेंद बाउंड्री से कुछ इंच पहले रुकी और तब तक दोनों बल्लेबाजों ने 1 रन पूरा कर लिया था. अफगानिस्तान के फील्डर हशमतुल्लाह शाहिदी ने चालाकी दिखाते हुए एक पैर बाउंड्री पर रखा और गेंद को पकड़ लिया. इस गेंद पर चौका लगने का मतलब था कि अगले ओवर में ब्लेसिंग मुजाराबानी को स्ट्राइक मिले और अफगानिस्तान के गेंदबाजों को बाकी दो पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट करने में परेशानी ना हो, जिससे जिंबाब्वे की पारी जल्दी खत्म की जा सके.

लेकिन फील्ड अंपायर अहमद शाद पकतीन और अलीम दार ने इस घटना का संज्ञान लिया और बातचीत के बाद आईसीसी के 19.8 नियम के तहत जिम्बाब्वे को एक एक्ट्रा रन दे दिया गया. यही नहीं अगली गेंद पर सिकंदर रजा को स्ट्राइक भी दे दी गई. आईसीसी के नियम 19.8 के मुताबिक- अगर ओवर थ्रो या किसी फ़ील्डर ने जानबूझकर बाउंड्री जाने दी हो तब बल्लेबाज़ों के द्वारा पूरे किए गए रन को भी जोड़कर दिया जाना चाहिए. पूरे किए रन के साथ अगर बल्लेबाज़ थ्रो या एक्ट के वक्त कोई रन पूरा करने के लिए एक दूसरे को क्रास कर चुके हों तो वो भी रन पूरा माना जाएगा.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.