hindi

पुराने समय में एक राजा अपने मंत्री की एक बात से नाराज हो गया और उसने मंत्री को फांसी की सजा सुना दी, सैनिकों से कहा कि जाओ शाम को मंत्री को

0 19

प्राचीन काल में एक राजा अपने मंत्री की एक बात से नाराज हो गया और उन्होंने मंत्री को फांसी की सजा दे दी. राजा ने सैनिकों से कहा कि जाओ शाम को मंत्री को फांसी पर लटका देना. यह सूचना मंत्री को दे आओ. राजा के सैनिक मंत्री के घर पहुंचे और घर को चारों ओर से घेर लिया. कुछ सैनिक अंदर गए और वहां मंत्री और उसके रिश्तेदार उत्सव मना रहे थे, क्योंकि मंत्री का जन्मदिन था.


सैनिक ने मंत्री और वहां सभी मौजूद लोगों को राजा का आदेश सुना दिया. यह आदेश सुनते ही सब लोग उदास हो गए. लेकिन मंत्री ने कहा कि हमारे पास आज शाम तक का समय है तो हमें हर पल उत्साह से जीना चाहिए. सभी लोग निराश थे, लेकिन मंत्री की बात सुनकर सब लोग उत्सव मनाने लगे. यह बात जब सैनिकों ने राजा को बताई तो राजा भी हैरान रह गया और उसने मंत्री को बुलवाया.
राजा ने मंत्री से पूछा- तुम पागल हो गए हो. आज शाम तुम्हें फांसी मिलने वाली है और तुम जश्न मना रहे हो. मंत्री ने कहा- राजन आपका धन्यवाद जो आपने मुझे शाम तक का वक्त दिया. मैं अपने परिवार के साथ शाम तक समय बिता सकूंगा. अगर मैं निराश होकर बैठ जाऊंगा तो यह समय भी नष्ट हो जाएगा. इसीलिए मैं शाम तक उत्साह और खुशी के साथ अपने परिवार के साथ वक्त बिताना चाहता हूं. राजा मंत्री की बात सुनकर खुश हो गए और उन्होंने मंत्री को माफ कर दिया.
कहानी की सीख
इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि जीवन का हर पल बहुत अमूल्य है. इसीलिए निराश नहीं होना चाहिए और हमेशा खुश होकर जीना चाहिए.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.