hindi

कैंसर के डॉक्टर को दूसरे शहर के लिए जाना था, तभी अचानक रद्द हो गई उसकी फ्लाइट, जब वह कार से जाने लगा तो रास्ते में आ गया भयानक तूफान, डॉक्टर ने वहां पर एक झोपड़ी में शरण ले ली, वहां पर एक बुजुर्ग

0 11

एक शहर में कैंसर के बहुत ही मशहूर डॉक्टर रहते थे। उन्हें एक बार कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली पहुंचना था। वह समय पर फ्लाइट पकड़ने के लिए घर से निकल गए। लेकिन उनकी फ्लाइट किसी वजह से कैंसिल हो गई। डॉक्टर के मन में विचार आया कि यहां से दिल्ली पहुंचने का रास्ता करीब 6 घंटे का है। कार से भी आराम से दिल्ली पहुंच सकता हूं।

डॉक्टर दिल्ली के लिए चल पड़ा। आधे रास्ते तक तो वो ठीक से पहुंच गया। लेकिन आगे बहुत ट्रैफिक था और डॉक्टर को लगने लगा कि वह समय पर दिल्ली नहीं पहुंच पाएगा। ड्राइवर ने कहा कि यहां से कच्चा रास्ता दिल्ली के लिए जाता है। आप कहे तो उसी रास्ते से दिल्ली चलते हैं।डॉक्टर के हां कहने पर ड्राइवर गाड़ी लेकर चल दिया।

लेकिन कुछ ही देर बाद मौसम बहुत खराब हो जाता है। इतनी तेज-आंधी तूफान आता हैं कि कुछ भी दिखाई नहीं देता। ड्राइवर को एक झोपड़ी दिखाई देती है और वह कहता है कि तूफान थमने तक उस झोपड़ी में रुक जाते हैं । दोनों झोपड़ी में चले जाते हैं। उनको अंदर एक बूढ़ी औरत दिखाई दे गई। उन्होंने बूढ़ी औरत से कहा कि माताजी बाहर मौसम बहुत खराब है। आप की झोपड़ी में कुछ देर के लिए रुक सकते हैं। बूढ़ी औरत ने उन्हें आज्ञा दे दी।

डॉक्टर की नजर बिस्तर पर लेटे एक लड़के पर पड़ गई और डॉक्टर ने बूढ़ी महिला से पूछा कि यह कौन है। बूढ़ी महिला ने कहा कि मेरे पोते को कैंसर हो गया है। बड़े से बड़ा डॉक्टर भी इसका इलाज नहीं कर सकता और ना ही इसके इलाज के लिए मेरे पास पैसे हैं। हर रोज में भगवान से यही प्रार्थना करती हूं कि मेरे पोते का इलाज हो जाए जिससे उसका जीवन नष्ट ना हो।

डॉक्टर ने बूढ़ी औरत से पूछा कि उस डॉक्टर का नाम बताओ। बूढ़ी औरत ने जो उत्तर दिया उसे सुनकर वह हक्का-बक्का रह गया। डॉक्टर को समझ आ गया कि मेरी फ्लाइट कैंसिल क्यों हुई और मैं उबड़ खाबड़ रास्ते पर क्यों आया। डॉक्टर ने बूढ़ी महिला से कहा कि भगवान ने आपकी सुन ली है। मैं वही डॉक्टर हूं जिसके लिए आप हर रोज प्रार्थना कर रही थी। मैं आप के पोते का इलाज करूंगा।

डॉक्टर ने ड्राइवर से कहा कि हमको वापस लौटना होगा और माताजी और पोते को लेकर जाना होगा। ड्राइवर ने कहा कि साहब आपको तो दिल्ली पहुंचना था। डॉक्टर ने कहा कि यह सब काम तो होता रहेगा। लेकिन किसी की जिंदगी बचाना सबसे बेहतर काम है। बूढ़ी महिला को अटूट विश्वास था कि उसके पोते का इलाज जरूर होगा क्योंकि वो भगवान पर विश्वास करती थी। डॉक्टर ने कहा भगवान ने मदद करने के लिए मुझे यहां तक भेजा।

कहानी की सीख

इस कहानी में हमें सीखने को मिलता है कि भगवान खुद मदद करने के लिए नहीं आते बल्कि किसी के रूप में मदद करवाते हैं। हर किसी को भगवान पर विश्वास रखना चाहिए।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.