hindi

जब एक गेंदबाज ने पूरी टीम को अकेले ही कर दिया था ढेर, 64 साल से नहीं टूटा है ये विश्व रिकॉर्ड

0 301

टेस्ट क्रिकेट को शुरू हुए 140 साल से ज्यादा का समय हो गया है. टेस्ट क्रिकेट में केवल दो ही मौके आए, जब किसी गेंदबाज ने पूरी टीम को ढेर कर दिया हो. सबसे पहले यह कारनामा 1956 में हुआ था और दूसरी बार 1999 में. बता दें कि जब पहली बार किसी गेंदबाज ने विपक्षी टीम के 10 खिलाड़ियों को आउट किया था तो वह तारीख 31 जुलाई थी और साल था 1956. आज 31 जुलाई है, इस मौके पर हम आपको इस रिकॉर्ड के बारे में विस्तार से बता रहे हैं.

बता दें कि इस रिकॉर्ड को 64 साल हो चुके हैं. लेकिन अभी तक कोई भी गेंदबाज इसे तोड़ नहीं पाया है. बता दें कि 1956 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पांच मैचों की एशेज सीरीज खेली जा रही थी. इस सीरीज का चौथा मैच मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड में खेला गया था, जो 26 जुलाई से 31 जुलाई के बीच हुआ था. उस मैच में इंग्लैंड की टीम ने पहली पारी में 459 रन बनाए थे, जिसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम पहली पारी में 84 रन ही बना सकी.

इंग्लैंड के जिम लेकर ने पहली पारी में 9 विकेट चटकाए थे. इसके बाद उन्होंने दूसरी पारी में एक के बाद एक कंगारू टीम के सभी खिलाड़ियों को आउट कर दिया और पूरी टीम को अपना शिकार बना लिया. ऑस्ट्रेलिया की टीम फॉलोऑन खेलने के बाद भी 205 रन पर ढेर हो गई. इस मैच में जिम लेकर ने 51.2 ओवर में 23 ओवर मेडेन फेंके और 53 रन देकर 10 विकेट झटके. ये आज तक विश्व रिकॉर्ड है. हालांकि साल 1999 में भारतीय स्पिनर अनिल कुंबले ने भी एक पारी में 10 विकेट चटकाए थे, लेकिन उन्होंने 74 रन खर्च किए थे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.