Feb 12, 2024, 19:25 IST

जब बल्लेबाजी करने के लिए एलुमिनियम का बैट लेकर मैदान पर उतरा था ये कंगारू क्रिकेटर, चारों ओर मच गया था हड़कंप

nnnn

वर्तमान में बल्लेबाजों के मुताबिक उनके बल्ले तैयार किए जाते हैं. बल्लेबाज अपनी पसंद के बल्ले से खेलते हैं. कई बार बल्लेबाजों के बल्ले को लेकर काफी हंगामा भी हुआ है. आज हम आपको उस कंगारू क्रिकेटर के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि एलुमिनियम का बैट लेकर मैदान पर बल्लेबाजी करने उतरा था. इस कारण मैदान पर बवाल मच गया था. 

मैदान पर एलुमिनियम का बल्ला लेकर उतरने वाला खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि ऑस्ट्रेलिया के महान गेंदबाज डेनिस लिली थे. 1979 में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच में एक मुकाबला खेला गया था, जिसमें डेनिस लिली एक गेंदबाज थे और नौवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरते थे. टेस्ट मैच के पहले दिन ऑस्ट्रेलिया की टीम ने अपने महज 232 रन पर ही 8 विकेट गंवा दिए थे. जिस कारण लिली को बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरना पड़ा. 

जब दूसरे दिन का खेल शुरू हुआ तो लिली मैदान पर बल्लेबाजी करने आए. लेकिन उनके हाथ में लकड़ी की बैट की बजाय एलुमिनियम का बल्ला था, जो कि उन्हें उनके दोस्त ग्रेम मोनेगन की कंपनी ने बना कर दिया था. बता दें कि ग्रेम एक क्लब के लिए मैच खेला करते थे और लिली अपने दोस्त मोनेगन की कंपनी में हिस्सेदार भी थे. इसीलिए लिली ने मार्केटिंग स्टंट के तौर पर इस बैट के साथ अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेलने का निर्णय किया था. 

उससे भी ज्यादा दिलचस्प बात ये थी कि उस समय क्रिकेट में इस तरह के बैट का इस्तेमाल करने पर कोई भी रोक टोक नहीं थी. इसलिए लिली एलुमिनियम के बल्ले के साथ मैदान पर उतरे. विपक्षी टीम ने उनके इस बल्लेबाज विरोध दूसरे दिन की चौथी गेंद पर किया. जब लिली इयान बॉथम की गेंद पर स्ट्रेट ड्राइव खेला तो उन्होंने 3 रन लिए. लेकिन उस समय कंगारू कप्तान ग्रेग चैपल का मानना था कि गेंद को 4 रन के लिए जाना चाहिए था. इसीलिए ग्रेग चैपल ने 12वें खिलाड़ी से लिली को लकड़ी का बेड देने के लिए कहा और तब इंग्लैंड के कप्तान माइक बियर्ली ने इसकी शिकायत कर दी.

बियर्ली ने कहा कि एलुमिनियम का बैट लेदर की गेंद को खराब कर रहा है. इंग्लिश कप्तान की बात सुनने के बाद अंपायर ने लिली को बैट बदलने के लिए कहा. लेकिन वो अपनी जिद पर अड़े रहे और बैट बदलने से साफ इंकार कर दिया. जिसके चलते मैदान पर तकरीबन 10 मिनट तक बातचीत देखने को मिली. उस समय लिली के एलुमिनियम का बल्ले का उपयोग करने के बाद इस बल्ले की मांग बहुत ज्यादा बढ़ने लगी. लकड़ी के मुकाबले एलुमिनियम के बल्ले ज्यादा बिकने लगे.

Advertisement