Fri, 23 Sep 2022

3 गैर-मुस्लिम क्रिकेटर्स जिन्होंने पाकिस्तान के लिए पूरे मन से खेला क्रिकेट, लेकिन साथ में हुआ बुरा बर्ताव

3 गैर-मुस्लिम क्रिकेटर्स जिन्होंने पाकिस्तान के लिए पूरे मन से खेला क्रिकेट, लेकिन साथ में हुआ बुरा बर्ताव

क्रिकेट के खेल में वैसे तो धर्म, जाति-पाति की कोई जगह नहीं है. लेकिन पाकिस्तान में ऐसा नहीं होता. पाकिस्तान एक मुस्लिम देश है. पाकिस्तान के लिए खेलने वाले ज्यादातर खिलाड़ी मुस्लिम ही हैं. लेकिन कुछ गैर-मुस्लिम खिलाड़ी भी पाकिस्तान के लिए पूरे मन से क्रिकेट खेले. हालांकि उनके साथ बहुत ही बुरा बर्ताव हुआ.

3 गैर-मुस्लिम क्रिकेटर्स जिन्होंने पाकिस्तान के लिए पूरे मन से खेला क्रिकेट, लेकिन साथ में हुआ बुरा बर्ताव

यूसुफ योहाना 

यूसुफ योहाना ने पाकिस्तान क्रिकेट में बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया. उन्होंने 1998 में अपना क्रिकेट करियर शुरू किया था. वह ईसाई धर्म से ताल्लुक रखते थे. 2004 में उन्होंने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया और अपना नाम बदलकर मोहम्मद यूसुफ कर दिया. हालांकि जब वह पाकिस्तान के लिए क्रिकेट खेलते थे, तब तक उन्होंने अपना धर्म नहीं बदला था.

दानिश कनेरिया 

दानिश कनेरिया को पाकिस्तान के लिए क्रिकेट खेलने का मौका तो मिला. लेकिन हिंदू धर्म का होने के चलते उनके साथ बहुत बुरा बर्ताव होता था. उन्हें केवल 19 वनडे मैच खेलने का ही मौका मिला.

अनिल दलपत सोमवारिया 

अनिल दलपत सोमवारिया दानिश कनेरिया के कजिन थे, जिन्हें पाकिस्तान के लिए बहुत ज्यादा मैच खेलने का मौका नहीं मिल पाया. उन्होंने अपना करियर 1984 में शुरू किया था. लेकिन वह केवल नौ टेस्ट मैच खेल सके और उनका करियर खत्म हो गया.

Advertisement