Feb 13, 2024, 06:00 IST

वो 2 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने मैदान पर मचाया खूब कोहराम, लेकिन कभी नहीं मिला कप्तानी का मौका

Y

भारतीय क्रिकेट टीम में कई सारे ऐसे खिलाड़ी रहे हैं। जिन्होंने न सिर्फ अपनी टीम में अहम खिलाड़ी का किरदार निभाया है। बल्कि लगातार अपने शानदार प्रदर्शन से भी वह दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रहे हैं। उनके अनुभव में कोई भी कमी नहीं रही है। लेकिन वह कभी अपनी राष्ट्रीय टीम के कप्तान नहीं बन पाए।

Y

इतना ही नहीं उन्होंने अपने क्रिकेट का सफर पूरा किया। लेकिन आज तक उन्हें कप्तानी की गद्दी नहीं मिली। जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारतीय टीम की अगर बात करें तो सौरव गांगुली और एम एस धोनी अभी तक के सबसे ज्यादा सफल और बेहतरीन कप्तान साबित हुए हैं। सौरभ गांगुली ने जहां भारतीय टीम को विदेशों में जीतना सिखाया है तो वहीं एमएस धोनी ने आईसीसी की ट्रॉफी जीतने वाले सबसे पहले कप्तान बने हैं । वैसे तो ज्यादातर टीम के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी को ही कप्तान बनाया जाता है। लेकिन भारतीय टीम में कई सारे ऐसे महान क्रिकेटर रहे हैं। जिनकोआज तक कप्तानी करने का मौका नहीं मिला। आज हम आपको ऐसे दो खिलाड़ियों के बारे में बताने वाले हैं। जिन्हें भारतीय वनडे टीम की कप्तानी करने का आज तक मौका नहीं मिला।

इस लिस्ट में सबसे पहले बात करेंगे हरभजन सिंह के बारे में। जिन्हें भारत में प्यार से भज्जी कहकर बुलाया जाता है उन्होंने टीम इंडिया की एक कुल 236 मैच खेले हैं और वह भारत के सबसे कामयाब ऑफ स्पिनर भी रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने वनडे में 269 विकेट हासिल किए हैं। साल 2011 के वर्ल्ड कप के दौरान वह टीम इंडिया का हिस्सा थी। इसके अलावा कई मौकों पर उन्होंने भारत को जीत हासिल कराने में उसकी मदद की है। हालांकि वह लंबे समय तक टीम इंडिया का हिस्सा रहे हैं और लगातार अच्छा प्रदर्शन भी कर रहे हैं। इसके बावजूद भी उन्हें कभी भी भारतीय टीम के कप्तान के रूप में नहीं देखा गया।  हालांकि ऐसा नहीं है कि भज्जी ने कभी टीम के लिए कप्तानी ना की हो। उन्होंने आईपीएल में मुंबई इंडियंस टीम को लीड किया और साल 2011 में उन्होंने मुंबई को चैंपियंस लीग T20 का किताब भी दिलाया।

युवराज सिंह भी कभी टीम इंडिया के कप्तान नहीं बन पाए। युवी ने साल 2000 में आईसीसी नॉकआउट टूर्नामेंट से अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। उस वक्त टीम इंडिया के कप्तान सौरव गांगुली थे। इसके अलावा उन्होंने साल 2007 की आईसीसी वर्ल्ड T20 में युवराज सिंह चैंपियन की भूमिका भी निभाई थी। जानकारी के लिए आपको बता दें कि युवराज सिंह ने साल 2011 के वर्ल्ड कप में भी जबरदस्त प्रदर्शन किया था।और मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए थे।

2007 के आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप में टीम इंडिया ने बेहद ख़राब प्रदर्शन किया था। जिसकी वजह से राहुल द्रविड़ धोना पड़ा था इसके बाद ही बीसीसीआई ने महेंद्र सिंह धोनी पर भरोसा जताया और युवराज सिंह ने टीम इंडिया की कप्तानी का मौका भी नहीं मिला।

Advertisement