Feb 12, 2024, 22:55 IST

इस डॉक्टर ने बनाया ऐसा घर, जहां कोई भी इंसान आकर खाना बनाकर खा सकता है, सालों से कर रहे हैं लोगों की निशुल्क मदद

एच

ये कहानी है हैदराबाद के डॉक्टर प्रकाश की, जिन्होंने 18 साल की उम्र में अपनी बहन को हार्ट प्रॉब्लम और अपने दोस्त को सड़क हादसे में खो दिया था. इस घटना के बाद उन्होंने अपने घर के दरवाजे सभी के लिए खोल दिए. उनके घर में जो भी आता है, वह खाना बनाकर खा सकता है, आराम कर सकता है और किताबें भी पढ़ सकता है.

डॉक्टर प्रकाश ने एमबीबीएस की डिग्री हासिल की. इसके बाद 9 साल तक उन्होंने विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के साथ काम किया और फिर सामाजिक कार्यों में कदम रखा. लेकिन वह जो कर रहे थे, उससे उन्हें खुशी नहीं मिल रही थी. इस वजह से 1999 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने दो मंजिला घर में एक एनजीओ शुरू किया, जहां कोई भी आ सकता है.

डॉक्टर प्रकाश ये दिखाना चाहते थे कि धार्मिक कार्ड या कॉर्पोरेट धन के इस्तेमाल के बिना भी समाज की सेवा की जा सकती है. उन्होंने अपने ‘अंदरी इल्लु’ यानी ओपन हाउस में बर्तन-चूल्हे से लेकर राशन तक का पूरा सामान रखा हुआ है जहां लोग खुद खाना बनाकर खा सकते हैं. महामारी के दौरान भी उनका यह घर खुला हुआ था. अब तक वह एक लाख से ज्यादा लोगों की मदद कर चुके हैं. डॉक्टर प्रकाश बताते हैं कि जब भी लोग उनके यहां परेशान आते हैं और चेहरे पर मुस्कुराहट लेकर जाते हैं तो इससे उन्हें बहुत सुकून मिलता है.

Advertisement